एक साग़र भी इनायत न हुआ याद रहे / बृज नारायण चकबस्त

8 Jan

एक साग़र भी इनायत न हुआ याद रहे ।

साक़िया जाते हैं, महफ़िल तेरी आबाद रहे ।।

बाग़बाँ दिल से वतन को यह दुआ देता है,

मैं रहूँ या न रहूँ यह चमन आबाद रहे ।

मुझको मिल जाय चहकने के लिए शाख़ मेरी,

कौन कहता है कि गुलशन में न सय्याद रहे ।

बाग़ में लेके जनम हमने असीरी झेली,

हमसे अच्छे रहे जंगल में जो आज़ाद रहे ।

powered by performancing firefox

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: