खामोशी का सामान है / जोश मलीहाबादी

8 Jan

ख़ामोशी का समाँ है और मैं हूँ
दयार-ए-ख़ुफ़्तगाँ है और मैं हूँ

कभी ख़ुद को भी इंसाँ काश समझे
ये सई-ए-रायगाँ है और मैं हूँ

कहूँ किस से कि इस जमहूरियत में
हुजूम-ए-ख़सरवाँ है और मैं हूँ

पड़ा हूँ इस तरफ़ धूनी रमाये
अताब-ए-रह-रवाँ है और मैं हूँ

कहाँ है हम-ज़बाँ अल्लाह जाने
फ़क़त मेरी ज़बाँ है और मैं हूँ

ख़ामोशी है ज़मीं से आस्माँ तक
किसी की दास्ताँ है और मैं हूँ

क़यामत है ख़ुद अपने आशियाँ में
तलाश-ए-आशियाँ है और मैं हूँ

जहाँ एक जुर्म है याद-ए-बहाराँ
वो लाफ़ानी ख़िज़ाँ है और मैं हूँ

तरसती हैं ख़रीदारों की आँखें
जवाहिर की दुकाँ है और मैं हूँ

नहीं आती अब आवाज़-ए-जरस भी
ग़ुबार-ए-कारवाँ है और मैं हूँ

म’अल-ए-बंदगी ऐ “जोश” तौबा
ख़ुदा-ए-मेहरबाँ है और मैं हूँ

Another one from Master.

powered by performancing firefox

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: