दोनों ओर प्रेम पलता है / मैथिलीशरण गुप्त

10 Jan

दोनों ओर प्रेम पलता है

सखि पतंग भी जलता है हा दीपक भी जलता है

सीस हिलाकर दीपक कहता

बन्धु वृथा ही तू क्यों दहता

पर पतंग पडकर ही रहता कितनी विह्वलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

बचकर हाय पतंग मरे क्या

प्रणय छोडकर प्राण धरे क्या

जले नही तो मरा करें क्या क्या यह असफलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

कहता है पतंग मन मारे

तुम महान मैं लघु पर प्यारे

क्या न मरण भी हाथ हमारे शरण किसे छलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

दीपक के जलनें में आली

फिर भी है जीवन की लाली

किन्तु पतंग भाग्य लिपि काली किसका वश चलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

जगती वणिग्वृत्ति है रखती

उसे चाहती जिससे चखती

काम नही परिणाम निरखती मुझे ही खलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

Technorati Tags: , , , ,

powered by performancing firefox

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: