निगाहों दिल का अफसाना / आनंद नारायण मुल्ला

10 Jan

निगाहों दिल का अफ़साना करीबे इख्तिताम आया ।

हमें अब इससे क्या आया शहर या वक्तेशाम आया ।।

ज़बाने इश्क़ पर एक चीख़ बनकर तेरा नाम आया,

ख़िरद की मंजिलें तय हो चुकी दिल का मुकाम आया ।

न जाने कितनी शम्मे गुल हुई कितने बुझे तारे,

तब एक खुर्शीद इतराता हुआ बालाये बाम आया ।

इसे आँसू न कह एक याद अय्यामें गुलिश्ताँ है,

मेरी उम्रे खाँ को उम्रे रफ़्ता का सलाम आया ।

बेरहमन आबे गंगा शैख कौशर ले उड़ा उससे,

तेरे होठों को जब छूता हुआ मुल्ला का जाम आया |

powered by performancing firefox

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: