The tale of the tree

17 Mar

दूर से देखो तो हर दरख्त की एक कहानी है,
थोड़ी धुप में सिकी, थोड़ी बारिश में पकी,
कभी राहगीर की कही, तो कभी हवा संग बही,
कभी कोयल ने गाई, तो कभी झींगुरों ने सुनाई,
रोज नए किरदार है, रोज सजता दरबार है,
कभी समझ में आए तो कभी भुरभुरी सी याद रह जाये,
दूर किसी किनारे पर बनी, कभी अश्रुओं की धार से बंधी,
थोड़ी अपनी, थोड़ी परायी, थोड़ी नयी, थोड़ी पुरानी,
दूर से देखो तो हर दरख्त की अपनी ही एक कहानी है.

One Response to “The tale of the tree”

  1. kriti trivedi March 18, 2012 at 5:58 pm #

    woww i liked this one DB special hai ye

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: