Twelve lines in ten minutes

18 Mar

Realized that writing in short bursts can be quite good.

हर दिन हर पल जो बांधता है,
यादों में यादों को ताकता है,
फिर चुप ही चुप में भांपता है,
आपका, मेरा यह ठरकी दिल.

हर मुस्कान का मतलब रहा ढूंढता,
तकरार की पहेली रहा बुझता,
बावरा जो बावरा ना कह सका,
आपका, मेरा यह ठरकी दिल.

लफ्फाजी की गफलत में फस कर,
अलबेले जुमलो से सज कर,
आखिर कब तक दम भरेगा,
आपका, मेरा यह ठरकी दिल.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: