Tag Archives: romantic

Random Lines – Romantic Poetry

17 Mar

रोशन है आशियाँ और आज आंख मेरी नम है,
वोह दूर भले बेठे है मुझसे, पर यह कायनात तो मेरे संग है.
कुछ रोष तो है, कुछ सांसें भी बेदम है,
काश काबू में हर पल होता मेरे, यहाँ तो बदल रही दुनिया हर क्षण है.
बूंद बूंद बहते हुए आंसुओ को भी अकेलापन सालता है,
यहाँ तो पूरी धार बह रही है, तीनो जहाँ हैं करीब मगर अकेले हम है.

I aim to be major rom-dram writer in India.

Advertisements

Random Lines

12 Mar

Decided to pen few lines before starting with some serious work. Well, these are definitely romantic, but they arent written for someone specific. This reminds me of a latest conversation with my friend.

My Friend: Man, you write poems, that is impressive.

Me: Nah! I dont think so, but yeah sometimes I feel I write good.

My Friend: Its good tool to impress girls.

Me: I write in Hindi…

My Friend: Ohh…is that bad?

Me: I guess so. I am still single.

Meanwhile, enjoy these lines.

वोह आंसुओं में भी सागर को ढूंड लेते है,
वोह हालात-ऐ-दिल को अपनी चुनर में समेट लेते है,
वोह तो खुदा है इस बेज़ार दिल के,
ठगी है यह उनकी की वोह हमसे बेहतर हमको समझ लेते है…

क्या करें इस इश्क का

22 Feb

तेरी आंखें भूरी है भूरे बलब में,
और काली है बिन सूरज के कोहरे में.
यह गड़बड़ है क्या मेरी रगों में,
या तू सच में नागिन बन लिपटी है मेरे मन से.

फलस्वरूप मुझे लोग पागल कहने लगे है,
किंचित सत्य किसी और खड़ा मुस्कुरा रहा.
बिन लोगों के ही मेरे चेहरे पे मुस्कान है,
भीड़ में खड़ा हर आदमी मुझे देख हैरान चिरमिरा रहा .

विचलित मन के कई आईनों तस्वीर वही पुरानी है,
तेरे बालों को अब देख के भी तेरी दो चोटियों की याद आनी है.
भोजनावकाश में भी भोजन अब बैरी बन बेठा,
तेरी याद में अब भोजन लघभग भजन सा बजता है.

मेरी बातों पे जमाना भले फ़ब्तिया कस ले,
मेरे चेहरे पे फिर भी तुझे देख भावनाओ का तांता सजता है.
हर और सृजन पे कर्ता का नाम है,
फिर क्यूँ यह थोडा टूटा दिल बेनाम सा लगता है.

मुश्किल की घडी होगी मगर में कह दूंगा,
बार बार भले न मिले, पर दिल तो सफा करना है.
अगले जनम का इंतज़ार तो मुश्किल है,
इस जनम ही प्यार का पूरा अदजुस्त्मेंट का मौका रखना है.

This completes the Hindi Triad on Deep Extinguished romance. This poem is inspired from real life characters, and yes they are very common.